12 Class Geography - II Notes in hindi chapter 10 Transport and Communication अध्याय - 10 परिवहन एवं संचार

Share:

12 Class Geography - II Notes in hindi chapter 10 Transport and Communication अध्याय - 10 परिवहन एवं संचार

CBSE Revision Notes for CBSE Class 12 Geography Chapter 20 India Transport and Communication Class 12 Geography Chapter 20 India Transport and Communication - roads, railways, waterways and airways: oil and gas pipelines, Geographical information and communication networks.

Class 12th Geography - II BOOK chapter 10 Transport and Communication Notes in Hindi

12 Class Geography - II Notes in hindi chapter 10 Transport and Communication अध्याय - 10 परिवहन एवं संचार


📚 अध्याय - 10 📚
👉 परिवहन एवं संचार 👈


✳️भारत में भूमि परिवहन और सड़क परिवहन :-

🔹 भारत में भूमि परिवहन और सड़क परिवहन द्वारा माल परिवहन नया नहीं है । प्राचीन काल से , इस उद्देश्य के लिए रास्ते और अनमेल सड़कें उपयोग में हैं । तकनीकी प्रगति के साथ , अब बड़ी मात्रा में माल और यात्रियों की आवाजाही के लिए धातुकृत सड़कें , रेलवे , केबलवे और पाइपलाइनें हैं ।

✳️ सड़क ट्रांसपोर्ट :-

🔹  इंडिया की गिनती उन देशों में है , जिनके पास दुनिया भर में सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है । भारत में कुल सड़क की लंबाई 42 . 3 लाख किमी है जो इसे उन देशों के बीच रखती है जहां सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है ।

🔹  सड़क परिवहन में हर साल लगभग 85 % यात्री और 70 % माल यातायात होता है । छोटी दूरी की यात्रा के लिए सड़क परिवहन बेहतर है । सड़क नेटवर्क में सुधार और आधुनिकीकरण का पहला प्रयास 1943 में ' नागपुर योजना के साथ किया गया था । लेकिन रियासतों और ब्रिटिश भारत के बीच तालमेल की कमी के कारण यह लागू नहीं हुआ ।

🔹 दूसरा प्रयास भारत में सड़कों की स्थिति में सुधार के लिए बीस साल की सड़क योजना ( 1961 ) के साथ आजादी के बाद किया गया था , लेकिन अभी भी सड़कों पर और शहरी केंद्रों के आसपास और ग्रामीण इलाकों में ध्यान केंद्रित करना जारी है और सड़क से सड़कें कम जुड़ी हुई हैं । निर्माण और रखरखाव के उद्देश्य से , सड़कों को राष्ट्रीय राजमार्ग ( NH ) , राज्य राजमार्ग ( SH ) , प्रमुख जिला सड़कों और ग्रामीण सड़कों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

✳️ परिवहन जाल :- 

🔹 अनेक स्थानों को परस्पर मार्गों की श्रेणियों से जोड़ने पर जिस प्रारूप का निर्माण होता है उसे परिवहन जाल कहते हैं ।

✳️ भारत में अन्य सड़कों की श्रेणी के अन्तर्गत कौन - सा दो प्रकार की सड़के शामिल हैं :-

🔹  भारत में अन्य सड़कों के दो प्रकार :-

👉 1 ) सीमावर्ती सड़कें

👉 2 ) अन्तर्राष्ट्रीय महामार्ग

✳️ सीमावर्ती सड़कें :-

🔹 सीमावर्ती सड़कें सीमा सड़क संगठन के अन्तर्गत आती है ।

🔹  देश के उत्तरी एवं उत्तरी पूर्वी सीमा से सटे राज्यों के आर्थिक विकास एवं रक्षा दृष्टि से इन सड़कों का विकास किया गया ।

🔹  बी . आर . ओ . ने चण्डीगढ़ से मनाली होते हुए लेह तक औसतन 4270 मीटर वाली सड़क का निर्माण किया ।

✳️ अन्तर्राष्ट्रीय महामार्ग :-

🔹 पड़ोसी राष्ट्रो से सद्भावना व मैत्रीपूर्ण सम्बन्धों को बनाये रखने के लिए इनका विकास किया गया ।

🔹 लाहौर को दिल्ली से बाघा बोर्डर के द्वारा जोड़ा गया तथा इसी प्रकार पड़ोसी देशों नेपाल व बांग्लादेश को अन्तर्राष्ट्रीय महामार्गो के द्वारा जोड़ा गया है ।

✳️ राष्ट्रीय राजमार्ग :-

🔹 एनएच ने उन सड़कों का उल्लेख किया है जो केंद्र सरकार द्वारा बनाई और बनाए रखी जाती हैं ।

🔹  राष्ट्रीय राजमार्ग अंतर - राज्यीय परिवहन और रक्षा क्षेत्रों और सामरिक क्षेत्रों में सामग्री के आवागमन के लिए हैं ।

🔹  2008 - 09 में , राष्ट्रीय राजमार्गों की कुल लंबाई 70934 किमी थी जो 1951 में 19700 किमी थी ।

🔹 ये राजमार्ग राज्य की राजधानियों , प्रमुख शहरों , महत्वपूर्ण बंदरगाहों , रेलवे जंक्शनों आदि को जोड़ते हैं और कुल सड़क लंबाई का केवल 1 . 67 % होने के बावजूद लगभग 40 % सड़क यातायात करते हैं ।

🔹 भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ( NHAI - 195 ) भूतल परिवहन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय है , जिसे विकास , रखरखाव , संचालन और राष्ट्रीय राजमार्गों की गुणवत्ता में सुधार के लिए जिम्मेदारी सौंपी जाती है ।

✳️ भारत के राष्ट्रीय महामार्गों की विशेषताएं :-

🔹  1 ) इन मार्गों को केंद्र सरकार द्वारा निर्मित एवं अनुरक्षित किया जाता है ।

🔹 2 ) इन मार्गों का उपयोग अंतर्राज्यीय परिवहन , सामरिक क्षेत्रों तक रक्षा सामग्री एवं सेना के आवागमन के लिये होता है ।

🔹 3 ) ये मार्ग राज्यों की राजधानियों , प्रमुख नगरों , महत्त्वपूर्ण पत्तनों तथा रेलवे जंक्शनों को जोड़ते हैं ।

🔹 4 ) 2008 - 09 में इन मार्गों की कुल लम्बाई 70934 थी ।

🔹 5 ) ये मार्ग देश की कुल सड़कों की लम्बाई का 1 . 67 प्रतिशत है ।

🔹 6 ) इन मार्गों का रखरखाव NHAI ( भारतीय राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण ) करता है ।

✳️ राष्ट्रीय महामार्ग विकास परियोजनाएँ :-

 ✳️ भारतीय राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण ने देश भर में विभिन्न चरणों में कई प्रमुख परियोजनाओं की जिम्मेदारी ले रखी है जैसे कि :-

👉  1 ) स्वर्णिम चतुर्भुज परियोजना : - इसके अंतर्गत 5846 किमी . लंबी 4 से 6 लेने वाले उच्च सघनता वाले यातायात गलियारे शामिल हैं जोकि देश के चार महानगरों दिल्ली , मुंबई , कोलकाता व चेन्नई को आपस में जोड़ता है ।

👉 2 ) उत्तर - दक्षिण तथा पूर्व - पश्चिम गलियारों को जोड़ना है ।

1 ) North - South Corridor - SriNagartoKanyakumari ( 4 . 016km )
2 ) East - West Corridor - Silchar ( Assam ) to Porbander Gujrat ( 3 , 640km )

✳️ राज्य राजमार्ग :-

🔹  ये सड़कें राष्ट्रीय राजमार्गों से जुड़ी हुई हैं और जिला मुख्यालयों और अन्य महत्वपूर्ण कस्बों के साथ राज्य की राजधानियों में शामिल हो जाती हैं । कुल सड़क की लंबाई में उनकी हिस्सेदारी लगभग 4 % है । इन राजमार्गों के निर्माण और रखरखाव के लिए राज्य सरकारें जिम्मेदार हैं ।

✳️ जिला सड़कें :-

🔹 ये सड़कें जिला मुख्यालय और जिले के अन्य महत्वपूर्ण नोड्स को जोड़ती हैं । उनकी देश की कुल सड़क लंबाई का 60 . 83 % हिस्सा है ।

✳️ ग्रामीण सड़कें :-

🔹 ये सड़कें ग्रामीण क्षेत्रों में संपर्क प्रदान करती हैं । भारत में सड़क की कुल लंबाई का लगभग 33 . 86 % ग्रामीण सड़कों के रूप में वर्गीकृत किया गया है ।

✳️ सीमा सड़क संगठन :-

🔹  मई 1960 में ' सीमा सड़क संगठन ' की स्थापना , देश की उत्तरी व उत्तरी - पूर्वी सीमा से सही सड़कों के सुधार के माध्यम से आर्थिक विकास को गति देने तथा रक्षा तैयारियों को मजबूती प्रदान करने के उद्देश्य से की गई । यह एक अग्रणी बहुमुखी निर्माण अभिकरण है । इसने अति ऊँचाई वाले पर्वतीय क्षेत्रों में चंडीगढ़ को मनाली व लेह से जोड़ने वाली सड़क बनाई ।

✳️ सड़क घनत्व :-

🔹 देश में सड़कों का वितरण एक समान नहीं है । सड़कों का घनत्व ( प्रति 100 वर्ग किमी क्षेत्र में सड़कों की लंबाई ) एक क्षेत्र की सड़कों के नेटवर्क की तुलना दूसरे क्षेत्र से करने की विधि है । राष्ट्रीय औसत सड़क घनत्व 125 . 02 किमी ( 2008 ) है ।

🔹 सडकों का घनत्व इलाकों की प्रकति और आर्थिक विकास के स्तर से प्रभावित है । चूंकि अधिकांश उत्तरी राज्यों और प्रमख दक्षिणी राज्यों में सड़कों का घनत्व अधिक है ( जैसे उत्तर प्रदेश में सड़क का उच्चतम घनत्व 532 . 27 किमी है ) , जबकि हिमालयी क्षेत्र , उत्तर पूर्वी क्षेत्र , मध्य प्रदेश और राजस्थान में सड़कों का घनत्व कम है ( जैसे जम्मू कश्मीर में सड़क का घनत्व 10 . 04 किमी है ) ।

🔹 उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों , बरसात और वनों की तुलना में सड़कों की गुणवत्ता , घनत्व के अलावा , मैदानी इलाकों में भी बेहतर है ।

✳️ सड़क घनत्व को निर्धारित करने वाले कारक हैं :-

👉  1 ) भूभाग की प्रकृति : - मैदानी क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण आसान व सस्ता होता है जबकि पहाड़ी व पठारी क्षेत्रों में निर्माण महंगा व कठिन होता है । इसलिए सड़कों की गुणवत्ता व घनत्व मैदानी क्षेत्रों में अधिक तथा ऊँचाई , बरसाती व वनीय क्षेत्रों में कम होता है ।

👉  2 ) आर्थिक विकास का स्तर : - जिन क्षेत्रों का आर्थिक विकास अच्छा होता है वहीं सड़कों का घनत्व अधिक होता है जैसे उत्तरी व दक्षिणी भारतीय राज्य जबकि पूर्वी प्रदेशों में भू - भाग की प्रकृति व विकास के निम्न स्तर के कारण सड़कों का घनत्व होता है ।

👉  3 ) सरकार की इच्छा शक्ति भी सड़क धनत्व को प्रभावित करती है ।

✳️ भारतीय कोंकण रेलवे :-

🔹  भारतीय कोंकण रेलवे का निर्माण 1998 में हुआ ।

✳️ भारतीय कोंकण रेलवे विशेषताएँ :-

🔹  1 ) यह रेल मार्ग रोहा ( महाराष्ट्र ) को कर्नाटक के मंगलौर से जोड़ता है । यह 760 किमी लंबा है ।

🔹  2 ) यह रेलमार्ग 146 नदियों व धाराओं तथा 2000 पुलों एवं 91 सुरंगो को पार करता है ।

🔹 3 ) इस मार्ग पर एशिया की सबसे लम्बी ( 6 . 5 कि . मी . ) सुरंग भी है ।

🔹 4 ) इस परियोजना में कर्नाटक , गोवा तथा महाराष्ट्र राज्य शामिल है ।

✳️ भारतीय रेल की मुख्य समस्याएँ :-

🔹 मरूस्थली क्षेत्रों में रेत के टिब्बे के कारण तथा वन प्रदेश व दलदली क्षेत्रों में रेलमार्ग में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है ।

🔹 पहाड़ी क्षेत्रों पर तथा नदियों पर पुल बनाना अत्यधिक खर्चीला होता है ।

🔹 भारत / रेलवे का पुराना - संरचनात्मक ढांचा भी एक बहुत बड़ी समस्या है ।

✳️ देश की प्रगति में रेलवे का गहन योगदान  :-

🔹 भारतीय रेल जाल विश्व के सर्वधिक लम्बे रेल जालों में से एक है । देश के आर्थिक विकास में इसका अत्याधिक योगदान है :-

🔹 1 ) रेलों द्वारा कोयला सबसे अधिक ढोया जाता है । इसके अधिक भारी कच्चे माल की ढुलाई भी रेल द्वारा होती है ।

🔹 2 ) रेल तैयार माल को भी विभिन्न बाजारो तक पहुँचाती है ।

🔹 3 ) विदेशों से आयातित माल को आन्तरिक भागों के बाजारों तक भी रेल पहुँचाती है । इस प्रकार रेल यात्रियों को व माल को भारी संख्या में दूर - दराज के स्थापनों तक ले जाती है और साथ ही कृषि व उद्योगों के विकास की गति को तेज़ कर देश के आर्थिक विकास में भी आवश्यक योगदान देती है ।

✳️ जल परिवहन :-

🔹 जल परिवहन भारी और भारी सामग्री के साथ - साथ यात्री सेवाओं के लिए परिवहन का सबसे सस्ता साधन है । यह परिवहन का ईंधन कुशल और पर्यावरण के अनुकूल मोड है ।

✳️ जल परिवहन के प्रकार :-

🔹  जल परिवहन दो प्रकार का होता है :-

👉 1 ) अन्तः स्थलीय जल परिवहन 
👉 2 ) महासागरीय जल परिवहन

✳️ एयर ट्रांसपोर्ट :-

🔹 एयर ट्रांसपोर्ट माल और यात्रियों की सबसे तेज़ आवाजाही को एक जगह से दूसरी जगह तक ले जाने की सुविधा देता है । यह लंबी दूरी और उन क्षेत्रों के लिए अच्छा है , जिनमें असमान इलाके और जलवायु स्थितियां हैं । भारत में हवाई परिवहन की शुरुआत 1911 में इलाहाबाद से नायर के लिए थोड़ी दूरी ( 10 किमी ) के हवाई जहाज संचालन से हई थी ।

🔹 भारतीय वायु अंतरिक्ष में सुरक्षित , कुशल हवाई यातायात और वैमानिकी संचार सेवाएं प्रदान करने के लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण जिम्मेदार है । अब यह रक्षा हवाई क्षेत्रों में 11 अंतरराष्ट्रीय , 86 घरेलू और 29 सिविल एन्क्लेव सहित 126 हवाई अड्डों का प्रबंधन करता है । भारत में हवाई परिवहन का प्रबंधन करने वाले दो निगम , एयर इंडिया और इंडियन एयरलाइंस हैं । दोनों निगमों का 1953 में राष्ट्रीयकरण किया गया था । अब कई निजी कंपनियों ने भी यात्री सेवाएं शुरू कर दी हैं ।

✳️ तेल और गैस पाइपलाइन :-

🔹 पाइपलाइन लंबी दूरी पर तरल पदार्थ और गैसों के परिवहन के लिए सुविधाजनक और सर्वोत्तम साधन हैं । ये घोल में बदलने के बाद ठोस पदार्थ भी ले जा सकते हैं । ऑयल इंडिया लिमिटेड ( OIL ) कच्चे तेल और प्राकृतिक गैस की खोज , उत्पादन और परिवहन के लिए जिम्मेदार है।

🔹 इसकी एक बड़ी उपलब्धि एशिया की पहली क्रॉस कंट्री पाइपलाइन का निर्माण है । यह पाइपलाइन असम में नहरकटिया तेल क्षेत्र से बिहार में बरौनी रिफाइनरी तक 1157 किलोमीटर की दूरी तय करती है । 1966 में , इस पाइपलाइन को कानपुर , उत्तर प्रदेश तक आगे बढ़ाया गया था ।

🔹 भारत के पश्चिमी क्षेत्र में , OIL ने पाइपलाइनों के व्यापक नेटवर्क का भी निर्माण किया - अंकलेश्वर - कोइली , मुंबई हाई - कोयल और हजीरा विजईपुर - जगदीशपुर ( HVJ ) पाइपलाइनों का । हाल ही में , सलाया ( गुजरात ) से मथुरा ( उत्तर प्रदेश ) तक एक पाइपलाइन का निर्माण किया गया है । यह 1256 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन है जो गुजरात से पंजाब ( जालंधर ) के लिए कच्चे तेल को मथुरा ले जाती है । नुमालीगढ़ से सिलीगुडी तक 660 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन का निर्माण भी प्रगति पर है ।

✳️ पाइप लाइन परिवहन की विशेषताएँ :-

🔹  1 ) किसी भी प्रकार की जलवायु धरातल पर आसानी से बिछाई जा सकती है ।

🔹 2 ) लम्बे समय तक उपयोग करने पर सस्ती पड़ती है ।

🔹 3 ) समय की बचत होती है ।

🔹 4 ) प्रदूषण नहीं करती ।

🔹 5 ) तरल व गैसीय - पदार्थों के परिवहन के लिए उपयोगी है ।

✳️ मुक्त आकाश नीति :-

🔹  सरकार ने अप्रैल 1992 में भारतीय निर्यातकों को मदद देने तथा उनके निर्यात को प्रतियोगिता पूर्ण बनाने के लिए नौभार के लिए एक मुक्त आकाश नीति शुरू की थी । इसके अन्तर्गत विदेशी निर्यातक का संगठन कोई भी मालवाहक वायुयान देश में ला सकता है ।

No comments

Thank you for your feedback