12th class Economic - II notes in hindi Chapter 4 poverty अध्याय - 4 निर्धनता

Share:

12th class Economic - II notes in hindi Chapter 4 poverty अध्याय - 4 निर्धनता

CBSE Revision Hindi Notes for CBSE Class 12 Economics Poverty Poverty- who are the poor?, how are poor people identified?, the number of poor in india, what causes poverty?, policies and programmes towards poverty alleviation, poverty alleviation programmes —a critical assessment.


12th class economic 2nd Book Chapter - 4 poverty notes in Hindi medium

12th class economic notes in hindi Chapter 4 2nd book poverty अध्याय - 4 निर्धनता

📚📚 अध्याय - 4 📚📚
📑📑 निर्धनता 📑📑

निर्धनता वह स्थिति है जिसमें एक व्यक्ति जीवन की न्यूनतम आवश्यकता को पूरा करने में असमर्थ रहता है । 

🔹 निर्धनता के प्रकार :-

क ) सापेक्ष निर्धनता - इसका अभिप्राय अन्य व्यक्तियों . क्षेत्रों या राष्ट्रों की तुलना में लोगों की गरीबी से होता है । 
ख ) निरपेक्ष निर्धनता - इसका अभिप्राय न्यूनतम जीवन निर्वाह आवश्यकताओं के पूरा न कर पाने से है या गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले व्यक्तियों की कुल संख्या से होता है । 

🔹 निर्धनता की श्रेणी :-

क ) चिरकालिक निर्धन - वे व्यक्ति जो सदैव निर्धन होते हैं । 
ख ) अल्पकालिक निर्धन - वे व्यक्ति जो कभी निर्धनता रेखा के उपर कभी नीचे रहते हैं । 
ग ) गैर निर्धन - वे कभी निर्धन नहीं होते हैं । 

🔹 निर्धनता रेखा का निर्धारण :-

( क ) न्यूनतम कैलोरी - शहरी क्षेत्र में 2100 तथा ग्रामीण क्षेत्र में 2400 कैलोरी प्रति व्यक्ति प्रतिदिन उपभोग करने वाले लोग गरीबी रेखा के उपर माने जाते हैं । 
( ख ) न्यूनतम कैलोरी का मौद्रिक मूल्य - इसके अनुसार शहरी क्षेत्र में ₹1000 तथा ग्रामीण क्षेत्र में ₹816 प्रति व्यक्ति मासिक व्यय करने वाला गरीबी रेखा के उपर है । 

🔹 निर्धनता के कारण :-

क ) बेरोजगारी 
ख ) विकास की धीमी गति 
ग ) कीमतों में वृद्धि 
घ ) जनसंख्या वृद्धि 

🔹 निर्धनता निवारण हेतु उपाय एवं नीतियाँ :-

1 . काम के बदले अनाज योजना 
2 . प्रधानमंत्री रोजगार योजना 
3 . मनरेगा ( महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी अधिनियम ) 
4 . स्वर्ण जयंती शहरी रोजगार योजना

Approach

 1. आर्थिक विकास को बढ़ाना
 2. गरीबी उन्मूलन के लिए विशिष्ट कार्यक्रम
 3. गरीबों की न्यूनतम जरूरतों को पूरा करना
🔹 गरीबी का दुष्चक्र: - यह स्वयं को मजबूत करने वाली ताकतों की स्थिति को संदर्भित करता है जिसमें हैं कुछ कारक जो एक गोलाकार तरीके से संबंधित हैं और जिसके परिणामस्वरूप गरीबी जारी है और विकास जारी है।

🔹 गरीबी के कारण:-

 1. जनसंख्या में तेजी से वृद्धि।
 2. राष्ट्रीय उत्पाद का निम्न स्तर।
 3. कीमत में वृद्धि।
 4. बेरोजगारी।
 5. विकास की कम दर।
 6. पूंजी की कमी।
 7. ग्रामीण ऋणग्रस्तता
 8. ब्रिटिश शासन के अधीन शोषण
 9. कम शिक्षा
 10. महंगाई का दबाव
 11. ग्रामीण क्षेत्रों से प्रवास का उच्च स्तर
 12. भूमि सुधारों को लागू करने में विफलता।

🔹गरीबी दूर करने के लिए सरकार द्वारा अपनाए गए उपाय।

1. Food for work programme.
2. Swarnjayanti Gram Swarozgar Yojana.
3. Pradhan Mantri Gramodoya Yojana.
4. Sompoorna Gramin Rozgar Yojana.
5. Swarn Jayanti Shahri Rozgar Yojana.
6. Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Scheme.
7. Jawahar Gram Samridhi Yojana

सरकार द्वारा अपनाया गया कार्यक्रम।  बुजुर्गों और गरीब लोगों की मदद करना और निराश्रितों की मदद करना
 महिलाओं:-
 1. राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम जिसमें राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना शामिल है,
 राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना, राष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना।
 2. अन्नपूर्णा योजना
 3. नौकरी प्रशिक्षण पर

No comments