11th class history notes in hindi Chapter 9 The Industrial Revolution अध्याय - 9 औद्योगिक क्रांति

Share:

11th class history notes in hindi medium Chapter 9 The Industrial Revolution अध्याय - 9 औद्योगिक क्रांति


11th class history cbse notes in hindi medium Chapter 9 The Industrial Revolution are available for free in Gyan Study Point Website. The best Website for CBSE students now provides Chapter 9 The Industrial Revolution class 11 Notes History latest chapter wise notes for quick preparation of CBSE board exams and school based annual examinations. Class 11 History notes on Chapter 9 The Industrial Revolution class 11 Notes History are also available for video in GYAN STUDY POINT Youtube Channel.


11th class history CBSE notes in hindi medium  अध्याय 9 औद्योगिक क्रांति Chapter 9 The Industrial Revolution
11th class history notes in hindi  Chapter 9 The Industrial Revolution अध्याय 9 औद्योगिक क्रांति

✳️ औद्योगिक क्रांति :-

ब्रिटेन में 1780 के दशक और 1850 के दशक के बीच उद्योग और अर्थव्यवस्था का जो रूपांतरण हुआ उसे प्रथम औद्योगिक क्रान्ति कहा जाता है ।

✳️ औद्योगिक क्रान्ति के सकारात्मक प्रभाव :- 

🔹 औद्योगिक क्रान्ति से नई नई मशीनों का आविष्कार हुआ । उत्पादन में मशीनों का प्रयोग होने से मानव को भारी कामों से छुटकारा मिला ।

🔹 औद्योगिक क्रान्ति से यातायात व संचार के साधनों के नए - नए आविष्कार हुए । परिवहन के तीव्रगामी साधनों से समय और दूरी पर मनुष्य ने विजय हासिल की ।

🔹  औद्योगिक क्रान्ति के फलस्वरूप मनुष्य के आराम व सुख की वस्तुएँ सस्ती कीमतों पर आम व्यक्ति को मिलने लगी ।

🔹  कच्चे माल की मांग बढ़ने के कारण कृषि क्षेत्र में क्रान्तिकारी सुधार ।

🔹 बैंकिंग प्रणाली का विकास ।

✳️  औद्योगिक क्रान्ति के नकारात्मक प्रभाव :-

🔹 ग्रामीण लोगों का रोजगार की तलाश में शहरों में आगमन ।

🔹 शहरों में अत्यधिक जनसंख्या के कारण स्वास्थ्य , शिक्षा , पेयजल और आवास की समस्या ।

🔹  स्त्रियों व बच्चों का शोषण होने के कारण स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव ।

🔹  घरेलू व कुटीर उद्योग धन्धो का समाप्त होना ।

🔹  समाज दो वर्ग में विभक्त - ( 1 ) उद्योगपति ( ii ) सर्वहारा वर्ग

✳️ औद्योगिक क्रांति शब्द का प्रयोग :-

🔹 इस शब्द का प्रयोग यूरोपीय विद्वानों जैसे जार्जिश मिशले ( फ्रांस ) और फ्राइड्रिक एंजेल्स ( जर्मनी ) द्वारा किया गया । अंग्रेजी में इस शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम दार्शिनिक एवं अर्थशास्त्री ऑरनॉल्ड टॉयनबी द्वारा उन परिवर्तनों का वर्णन करने के लिए किया गया , जो ब्रिटेन के औद्योगिक विकास में 1760 और 1820 के बीच हुए ।

🔹 ब्रिटेन पहला देश था जिसने सर्वप्रथम औद्योगीकरण का अनुभव किया । इसके कारण ब्रिटेन की राजनैतिक व्यवस्था , कानून व्यवस्था , मुद्रा प्रणाली , बाजार व्यवस्था , एक ही प्रकार की मुद्रा का प्रयोग ।

✳️ कृषि क्रान्ति :-

यह क्रान्ति एक ऐसी प्रक्रिया थी जिसके द्वारा बड़े जमींदारों ने अपनी सम्पत्तियों के पास छोटे खेत खरीद लिए और गाँव की सार्वजनिक भूमि को कब्जा लिया और बड़ी - 2 भू - सम्पदाए बना ली जिससे खाद्य उत्पादन में वृद्धि हुई ।

✳️ कृषि - क्रांति के प्रमुख कारण :-

( i ) ब्रिटेन में आये औद्योगिक क्रांति के कारण नए कल पुर्जो का बाढ़ सी आ गई जिसका फायदा कृषि क्षेत्र को भी मिला |

( ii ) लोगों के नए विकल्प मिले और वस्तुओं के बिक्री के लिए बाजार का विस्तार हुआ ।

( iii ) बड़े जमींदारों ने अपनी ही सम्पतियों के आस - पास छोटे - छोटे खेत खरीद लिए और गाँव के सार्वजानिक जमीनों को घेर लिया ।

( iv ) भू - सम्पदाएँ बढ़ने से खाध्य उत्पादन में भारी वृद्धि हुई ।

✳️ ब्रिटेन के तीन हिस्से और उसकी विशेषताएँ :-

🔹 इंग्लैंड , वेल्स और स्कॉटलैंड ये ब्रिटेन के तीन हिस्से थे जिस पर एक ही राजतन्त्र अर्थात सम्राट का शासन था ।

✳️ विशेषताएँ : -

( i ) सम्पूर्ण राज्य में एक ही कानून व्यवस्था थी ।

( ii ) एक ही सिक्का अर्थात मुद्रा प्रणाली थी ।

( iii ) इन तीनों राज्यों के लिए एक बाजार व्यवस्था थी जिससे व्यापार करने वालों को एक राज्य से दुसरे राज्य में व्यापार करने पर अलग से कर नहीं चुकाना पड़ता था ।

✳️ पिटवा लोहे का विकास :-

द्वितीय डर्बी ( 1711 - 68 ) द्वारा ढलवाँ लोहे से पिटवाँ लोहे का विकास तृतीय डर्बी ने 1779 में विश्व में पहला लोहे का पुल बनाया ।

✳️ औद्योगिक क्रान्ति का औरतों और बच्चों के जीवन पर प्रभाव :-

🔹 उच्च वर्ग की महिलाओं का जीवन अधिक सुविधापूर्ण तथा आनन्द दायक इसके विपरीत निम्नवर्ग की महिलाओं का जीवन संघर्ष पूर्ण ।

🔹 पुरूषों की अपेक्षा महिलाओं की मजदूरी में कमी ।

🔹 महिलाओं को काम निम्नतर परिस्थितियों में करना पड़ता था ।

🔹  महिलाओं को स्वास्थ्य सम्बन्धी अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता था ।

🔹 महिलाओं को वित्तीय स्वतन्त्रता मिली - आत्म सम्मान में वृद्धि ।

🔹 काम की घटिया परिस्थितियों के बारे में कम आन्दोलित ।

🔹  बच्चों के बाल मशीनों में फंस जाना उनके हाथ कुचल जाते थे ।

🔹  मशीनों में गिरकर बच्चे मौत के मुँह तक में चले जाते थे ।

🔹 कोयला खानों में रास्ता संकरा होने के कारण बच्चों को भेजते थे जिससे दुर्घटना का भय बना रहता था ।

✳️ औद्योगिक श्रमिकों की स्थिति में कानून के जरिये सुधार

🔹 सरकार ने सन् 1819 में श्रमिकों की स्थिति में सुधार के लिए कानून बनायें ।

🔹 नौ वर्ष से कम आयु वाले बच्चों से फैक्ट्री में काम करवाने पर पाबंदी ।

🔹 नौ से सोलह वर्ष की आयु वाले बच्चों से काम कराने की सीमा 12 घण्टे तक सीमित कर दी गई ।

🔹 1833 के एक अधिनियम द्वारा नौ वर्ष से कम आयु वाले बच्चों को केवल रेशम की फैक्ट्रियों में काम पर लगाने की अनुमति ।

🔹  बड़े बच्चों के लिए काम के घण्टे सीमित कर दिये गये ।

🔹 फैक्ट्री निरीक्षकों की नियुक्ति करना ।

🔹 1842 के खान और कोयला अधिनियम ने 10 वर्ष से कम बच्चों व स्त्रियों से खानों में नीचे काम लेने पर पाबन्दी लगाना ।

🔹  1847 में यह कानून बना 18 साल से कम उम्र के बच्चों और स्त्रियों से 10 घण्टे से अधिक काम न लिया जाय ।

✳️ औद्योगिक क्रांति के फलस्वरूप समाज में दो वर्गों का उदय : -

( i ) मालिक
( ii ) मजदूर वर्ग ।

🔹 कुटीर व लघु उद्योग धन्धों का विनाश होने से बेरोजगारी बढ़ी । केवल पूँजीपति वर्ग को लाभ हुआ ।


✳️ औद्योगीकरण से नुकसान :-

परिवारों में बिखराव , रोजगार के तलाश में गाँवों से शहरों में लोगों का पलायन , शहरों का रूप विकृत होना । ब्रिटेन को औद्योगीकरण की कितनी मानवीय और भौतिक कीमत चुकानी पड़ी।

🔹 गरीब मजदूर खासकर बच्चों की दुर्दशा , पर्यावरण का क्षय और हैजा तथा तपेदिक की बीमारियाँ ।

11th class history notes in hindi  Chapter 9 The Industrial Revolution अध्याय 9 औद्योगिक क्रांति


✳️ समाजवाद :-

🔹उत्पादन का एक विशिष्ट सिद्धान्त जिसके अन्तर्गत उत्पादन के साधनों पर सम्पूर्ण समाज का स्वामित्व कायम रहता है ।

✳️ पूँजीवाद :-

🔹 इस व्यवस्था के अन्तर्गत उत्पादन के साधनों पर केवल व्यक्ति का स्वामित्व कायम रहता है ।

✳️ धमनभट्टी का अविष्कार :-

1709 में प्रथम अब्राहम डर्बी ने धमन भट्टी का आविष्कार ।

✳️ धमनभट्टी के अविष्कार के लाभ :- 

( i ) इसमें सर्वप्रथम ' कोक ' का इस्तेमाल किया गया | कोक में उच्च ताप उत्पन्न करने की शक्ति थी । और यह पत्थर कोयले से गंधक तथा अपद्रव्य निकलकर तैयार किया जाता था ।

( ii ) भट्ठियों को काठकोयले पर निर्भर नहीं रहना पड़ा ।

( iii ) इससे निकला हुआ लोहा से पहले की अपेक्षा अधिक बढ़िया और लंबी ढलाई की जा सकती थी ।

✳️ ब्लचर : – 

1814 में एक रेलवे इंजीनियर जार्ज स्टीफेन सन द्वारा बनाया गया एक रेल इंजन है

✳️ भाप की शक्ति का प्रयोग :- 

ब्रिटेन के उद्योग में शक्ति के एक नए स्रोत के रूप में भाप का व्यापक रूप से प्रयोग से जहाजो और रेलगाड़ियों द्वारा परिवहन की गति काफी तेज हो गई । भाप की शक्ति का प्रयोग सबसे पहले खनन उद्योग में किया गया ।

✳️ भाप शक्ति की विशेषताएँ :- 

( i ) भाप की शक्ति उच्च तापमानों पर दबाव पैदा करती जिससे अनेक प्रकार की मशीनें चलाई जा सकती थीं ।

( ii ) भाप की शक्ति ऊर्जा का अकेला ऐसा स्रोत था जो मशीनरी बनाने के लिए भी भरोसेमंद और कम खर्चीला था ।

✳️ भाप की शक्ति का इस्तेमाल :-

🔹 भाप की शक्ति का इस्तेमाल सर्वप्रथम खनन उद्योग में किया गया ।

✳️ थॉमस सेवरी के भाप इंजन की कमियाँ :- 

🔹 ये इंजन छिछली गहराइयों में धीरे - धीरे काम करते थे , और अधिक दबाव हो जाने पर उनका वाष्पित्र ( बॉयलर ) फट जाता था ।

✳️ थॉमस न्यूकोमेंन के भाप इंजन की कमियाँ :- 

🔹 इसमें सबसे बड़ी कमी यह थी कि संघनन बेलन ( कंडेंसिंग सिलिंडर ) लगातार ठंडा होते रहने से इसकी ऊर्जा खत्म होती रहती थी।

✳️ जेम्स वाट के भाप इंजन की विशेषताएँ :-

( i ) यह केवल एक साधारण पम्प की बजाय एक प्राइम मूवर ( चालक ) के रूप में काम करता था ।

( ii ) इससे कारखानों में शक्तिचालित मशीनों को उर्जा मिलने लगी ।

( iii ) यह अन्य इंजनों के मुकाबले अधिक शक्तिशाली था , जिससे इसका अधिक इस्तेमाल होने लगा ।

✳️ जेम्स ब्रिडली द्वारा इंग्लैण्ड में पहली नहर :-

1761 ई . में जेम्स ब्रिडली द्वारा इंग्लैण्ड में पहली नहर ' वर्सली कैनाल ' बनाई गई । इस नहर का प्रयोग कोयला भंडारों से शहर तक कोयला ले जाने के लिए किया जाता था । 1788 - 1796 ई . तक आठ वर्ष की अवधि को ' नहरोन्माद ' के नाम से पुकारा जाता है । 46 नहरों के निर्माण की नई परियोजना हाथ में ली गई ।

✳️ इन वर्षों के दौरान प्रतिभाशाली व्यक्तियों द्वारा क्रान्तिकारी परिवर्तन :- 

🔹धन , माल , आय , सेवाओं , ज्ञान और उत्पादकता कुशलता के रूप में अचानक वृद्धि होना ।

🔹 1795 में ब्रिटेन की संसद ने जुड़वा अधिनियम पारित किये । कार्न लॉज ( अनाज के कानून ) का समर्थन । चकबन्दी ने मजदूरों को बेरोजगार बनाया । उन्होंने अपना गुस्सा मशीनों पर निकाला । बहुत बड़े पैमाने पर मशीनों में तोड़फोड़ करना ।

✳️ लुडिज्म आन्दोलन :-

🔹 जनरल नेड लुड के नेतृत्व में लुडिज्म आन्दोलन चलाया गया । ये मशीनों की तोड़फोड़ में विश्वास नहीं करते थे बल्कि इसके अनुनायियों ने न्यूनतम मजदूरी , औरतों तथा बाल मजदूरी पर नियन्त्रण , बेरोजगारों के लिए काम तथा कानूनी तौर पर मजदूर संघ ( ट्रेड यूनियन ) बनाने के अधिकार की माँग की ।

No comments

Thank you for your feedback