12th class Political Science notes in hindi Chapter 9 Globalisation अध्याय - 9 वैश्वीकरण

Share:

12th class Political Science notes in hindi Chapter = 9 Globalisation अध्याय - 9 वैश्वीकरण


CBSE Revision Notes for CBSE Class 12 Political Science Book-1 Chapter-9 Globalisation Class 12 Political Science Book-1 Chapter-9 Globalisation - Economic, cultural and political manifestations. Debates on the nature of consequences of globalisation. Anti-globalisation movements. India as an arena of globalization and struggle against it.

12th class Political science Chapter - 9 Globalisation notes in Hindi medium

✳️ वैश्वीकरण :-

🔹 वैश्वीकरण बहुआयामी प्रक्रिया है , जिसमें हम अपने निर्णयों को दुनिया के एक क्षेत्र में कार्यान्वित करते हैं , जो दुनिया के दूरवर्ती क्षेत्र में व्यक्तियों के व्यवहार के निर्धारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । 

🔹 एक अवधारणा के रूप में वैश्वीकरण का बुनियादी तत्व ' प्रवाह ' है । प्रवाह कई प्रकार के होते हैं जैसे - वस्तुओं , पूँजी , श्रम और विचारों का विश्व के एक हिस्से से दूसरे अन्य हिस्से में मुक्त प्रवाह । 

🔹 वैश्वीकरण को भूमण्डलीयकरण भी कहते है और यह एक बहुआयामी अवधारणाा है । यह न तो केवल आर्थिक परिघटना है और न ही सिर्फ सांस्कृतिक या राजनीतिक परिघटना ।

✳️  वैश्वीकरण के कारण :-

🔹 उन्नत प्रौद्योगिकी एवं विश्वव्यापी पारस्परिक जुड़ाव जिस कारण आज विश्व एक वैश्विक ग्राम बन गया है ।

🔹  टेलीग्राफ , टेलीफोन , माइक्रोचिप , इंटरनेट एवं अन्य सूचना तकनीकी साधनों ने विश्व के विभिन्न भागों के बीच संचार की क्रांति कर दिखाई है । 

🔹 पर्यावरण की वैश्विक समस्याओं जैसे सुनामी , जलवायु परिवर्तन वैश्विक तापवृद्धि से निपटने हेतू अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग ।

✳️ वैश्वीकरण की विशेषताएँ :-

🔹 पूंजी , श्रम , वस्तु एवं विचारों का गतिशील एवं मुक्त प्रवाह । 

🔹 पूंजीवादी व्यवस्था , खुलेपन एवं विश्व व्यापार में वृद्धि ।

🔹  देशों के बीच आपसी जुड़ाव एवं अन्तः निर्भरता ।

🔹  विभिन्न आर्थिक घटनाएँ जैसे मंदी और तेजी तथा महामारियों जैसे एंथ्रेक्स , इबोला , HIV AIDS , स्वाइन फ्लू जैसे मामलों में वैश्विक सहयोग एवं प्रभाव । 

✳️ वैश्वीकरण के उदाहरण :-

🔹  विभिन्न विदेशी वस्तुओं की भारत में उपलब्धता ।

🔹 युवाओं को कैरियर के विभिन्न नए अवसरों का मिलना । 

🔹 किसी भारतीय का अमेरिकी कैलेंडर एवं समयानुसार सेवा प्रदान करना ।

🔹 फसल के खराब हो जाने से कुछ किसानों द्वारा आत्म - हत्या कर लेना । 

🔹 अनेक खुदरा ( रिटेल ) व्यापारियों को डर है कि रिटेल में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ( FDI ) लागू होने से बड़ी रिटेल कम्पनियाँ आयेंगी और उनका रोजगार छिन जायेगा । 

🔹 लोगों के बीच आर्थिक असमानता में वृद्धि । 

ये उदाहरण सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनों प्रकृति के हो सकते है ।

✳️ वैश्वीकरण के सकारात्मक प्रभाव :-

🔹 वस्तुओं एवं सेवाओं का प्रवाह ।

🔹 रोजगार के अवसरों का उत्पन्न होना ।

🔹 तकनीक एवं शिक्षा का अदान - प्रदान ।

🔹 जीवन शैली में परिवर्तन ।

🔹 विश्व के लोगो से जुडाव ।

🔹 आर्थिक मजबूती प्रदान करना एवं आत्मनिर्भर बनाना ।

✳️ वैश्वीकरण के नकारात्मक प्रभाव :-

🔹 लघु - कुटीर उद्योग का पतन ।

🔹 आमिर अधिक अमीर और गरीब और गरीब हो जाता है ।

🔹 सांस्कृतिक पतन ।

🔹  आर्थिक गतिविधियों का विदेशी कंपनियों का वर्चश्व ।

🔹  पूंजीपतियों का वर्चश्व 

✳️ वैश्वीकरण के प्रकार :-

🔹 वैश्वीकरण के प्रकार 

👉 ( i ) राजनीतिक 

👉 ( i ) आर्थिक

👉 ( iii ) सांस्कृतिक 

✳️ वैश्वीकरण के राजनीतिक प्रभाव :-

🔹  वैश्वीकरण से राज्य की क्षमता में कमी आई है । राज्य अब कुछेक मुख्य कार्यों जैसे कानन व्यवस्था बनाना तथा सुरक्षा तक ही सीमित है ।

🔹  अब बाजार आर्थिक और सामाजिक प्राथमिकताओं का मुख्य निर्धारक है । 

🔹 राज्य की प्रधानता बरकरार है तथा उसे वैश्वीकरण से कोई खास चुनौती नहीं मिल रही । 

🔹 इस पहलू के अनुसार वैश्वीकरण के कारण अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के बूते राज्य अपने नागरिकों के बारे में सूचनाएँ जुटा सकते है और कारगर ढंग से कार्य कर सकते है । अतः राज्य अधिक ताकतवर हुए है । 

✳️ वैश्वीकरण के आर्थिक प्रभाव :-

🔹  अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष , विश्वबैंक एवं विश्व व्यापार संगठन जैसे - अन्तर्राष्ट्रीय संस्थाओं द्वारा आर्थिक नीतियों का निर्माण । इन संस्थाओं में धनी , प्रभावशाली एवं विकसित देशों का प्रभुत्व । 

🔹 आयात प्रतिबंधो में अत्यधिक कमी । 

🔹 पूंजी के प्रवाह से पूंजीवादी देशों को लाभ परन्तु श्रम के निर्बाध प्रवाह न होने के कारण विकासशील देशों को कम नाम । 

🔹 विकसित देशों द्वारा वीजा नीति द्वारा लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध । 

🔹 वैश्वीकरण के कारण सरकारे अपने सामाजिक सरोकारों से मुंह मोड़ रही है उसके लिए सामाजिक सुरक्षा कवच की आवश्यकता है ।

🔹  वैश्वीकरण के आलोचक कहते है कि इससे समाजों में आर्थिक असमानता बढ़ रही है । 

✳️ वैश्वीकरण के सांस्कृतिक प्रभाव :-

🔹 सांस्कृतिक समरूपता द्वारा विश्व में पश्चिमी संस्कृतियों को बढ़ावा । 

🔹 खाने - पीने एवं पहनावे में विकल्पों की संख्या में वृद्धि । 

🔹 लोगों में सांस्कृतिक परिवर्तनों पर दुविधा । 

🔹 संस्कृतियों की मौलिकता पर बुरा असर ।

🔹 सांस्कृतिक वैभिन्नीकरण जिसमें प्रत्येक संस्कृति कही ज्यादा अलग और विशिष्ट हो रही है ।

🔹 महिलाओं की स्थिति में सुधार ।

🔹 रॉक संगीत को पसंद करना ।

🔹 रूढ़िवादिता का अंत ।

🔹 सांस्कृतिक धरोहर का खत्म होना ।

🔹 विदेशी फिल्मो का चलन ।

✳️ भारत और वैश्वीकरण :-

🔹  आजादी के बाद भारत ने संरक्षणवाद की नीति अपनाकर अपने घरेलू उत्पादों पर जोर दिया ताकि भारत आत्मनिर्भर रहे । 

🔹 1991 में लागू नई आर्थिक नीति द्वारा भारत वैश्वीकरण के लिए तैयार हुआ और खुलेपन की नीति अपनाई । 

🔹 आज वैश्वीकरण के कारण भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7 . 5 प्रतिशत वार्षिक की दर से बढ़ रही है । जो 1990 में 5 . 5 प्रतिशत वार्षिक थी । भारत के अनिवासी भारतीय विदेशों में भारतीय संस्कृति को बढ़ावा दे रहे है ।

🔹  भारत के लोग कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर में अपना वर्चस्व स्थापित करने में कामयाब रहे है ।

🔹  आज भारतीय लोग वैश्विक स्तर पर उच्च पदों पर आसीन होने में सफल हुए है । 

✳️ वैश्वीकरण का विरोध :-

🔹 वामपंथी विचारक इसके विभिन्न पक्षों की आलोचना करते है । राजनीतिक अर्थों में उन्हें राज्य के कमजोर होने की चिंता है । 

🔹 आर्थिक क्षेत्र में वे कम से कम कुछ क्षेत्रों में आर्थिक निर्भरता एवं संरक्षण वाद का दौर कायम करना चाहते है ।

🔹 सांस्कृतिक संदर्भ में इनकी चिंता है कि परंपरागत संस्कृति को हानि होगी और लोग अपने सदियों पुराने जीवन मूल्य तथा तौर तरीकों से हाथ धो देंगे । 

🔹 वर्ल्ड सोशल फोरम ( WSF ) नव उदारवादी वैश्वीकरण के विरोध का एक विश्वव्यापी मंच है इसके तहत मानवाधिकार कार्यकर्ता , पर्यावरणवादी मजदूर , युवा और महिला कार्यकर्ता आते है । 

🔹 1999 में सिएट्ल में विश्व व्यापार संगठन की मंत्री - स्तरीय बैठक का विरोध हुआ जिसका कारण आर्थिक रूप से ताकतवर देशों द्वारा व्यापार के अनुचित तौर - तरीकों के विरोध में हुआ । 

No comments

Thank you for your feedback