Class 12 History Notes Chapter 5 Through the eyes of Travellers(( यात्रियों के नजरिए समाज के बारे में उनकी समझ

Class 12 History Notes Chapter 5 Through the eyes of Travellers(( यात्रियों के नजरिए समाज के बारे में उनकी समझ ( लगभग दसवीं सदी से सत्रहवीं सदी तक ).))




CBSE class 12 History Through the eyes of Travellers class 12 Notes History in PDF are available for free download in GYAN STUDY POINT Website. The best Website for CBSE students now provides Through the eyes of Travellers class 12 Notes History latest chapter wise notes for quick preparation of CBSE board exams and school based annual examinations. Class 12 History notes on chapter 1 Through the eyes of Travellers History Book 1 and Book 2 are also available for download in Gyan Study Point website.

1️⃣🔹महिलाओ और पुरूषों द्वारा यात्रा करने के अनेक कारण थे । जैसे कार्य की तलाश में , प्राकृतिक आपदाओ से बचाव के लिए , व्यापारियों , सैनिको , पुरोहितो और तीर्थ यात्रियों के रूप में या फिर साहस की भावना से प्रेरित होकर । 

2️⃣🔹उपमहाद्वीप में आए यात्रियों द्वारा दिए गए सामाजिक विवरण अतीत की जानकारी में सहायक । 

3️⃣🔹10वीं सदी से 17वीं सदी तक तीन प्रमुख यात्री भारत में आये ।

Class 12 History Notes Chapter 5


4️⃣🔹अल - बिरूनी को भारत में अनेक अवरोधों का सामना करना पड़ा जैसे संस्कृत भाषा से वह परिचित नहीं था , धार्मिक अवस्था और प्रथा में भिन्नता , जाति व्यवस्था तथा अभिमान ।

5️⃣🔹अलबिरुनी का आधुनिक उज्बेकिस्तान में जन्म । वह कई भाषाओं का ज्ञाता था जिनमें सीरियाई , फारसी , हिब्रू और संस्कृत भाषा शामिल हैं । 

6️⃣🔹1017 ई . में सुल्तान महमूद , अलबिरुनी को अपने साथ गजनी ले गया । 


भाग एक


भाग दो 

भाग तीन


7️⃣🔹अलबिरुनी का जन्म 973 ई . में हुआ था । 

8️⃣🔹इबन बतूता ने भारतीय शहरों का जीवन्त विवरण किया है जैसे - भीड़ भाड़ वाली सड़के , चमक - दमक वाले बाजार , बाजार आर्थिक गतिविधियों के केन्द्र , डाक व्यवस्था , दिल्ली एवं दौलताबाद , पान और नारियल ने इवन बतूता को आश्चर्य चकित किया । उसने दास - दासियों के विषय में भी लिखा । 

9️⃣🔹इब्नबतूता के विवरण के अनुसार उस काल में सुरक्षा व्यवस्था समुचित नहीं थी । 

1️⃣0️⃣🔹बर्नियर के अनुसार भारत में निजी भू - स्वामित्व का अभाव था जिससे बेहतर भूधारक वर्ग का उदय न हो सका । बर्नियर के अनुसार भारत में मध्यवर्ग के लोग नहीं थे । बर्नियर ने सती प्रथा का विस्तृत वर्णन किया है । 

1️⃣1️⃣🔹फ्रास्वा बर्नियर एक चिकित्सक राजनीतिज्ञ , दार्शनिक तथा एक इतिहासकार भी था । 

1️⃣2️⃣🔹बर्नियर ने पूर्व और पश्चिम की तुलना की ।

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »